मजबूरी

चलो आओ करें टाईम पास
कुछ पलों के लिए बन जाएँ एक दूसरे के खास
तुम्हें भी कोई नहीं मिला, बैठे हो इसलिए उदास
चलो आओ करें टाईम पास
न तुम्हे मुझ पर यकीन, न मुझे तेरे पर विश्वास
फिर भी झूठा दिखावा करने का करें प्रयास
दोनो को रहती है इक दूसरे के झुकने की कयास
चलो आओ करें टाईम पास।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this:
search previous next tag category expand menu location phone mail time cart zoom edit close