रक्षा बंधन

मात्र सूत नहीं है
है इसमें प्यार
मंगल कामना,  स्नेह, दुलार
लड़कियों को न समझें भार
इन्हे पढ़ाएं
सक्षम बनाएं
इस त्योहार को न दें सीमाएँ
मिठाई, पैसे, उपहार
इन सब से ज्यादा है यह त्योहार
इसमें है एक दूसरे के प्रति निष्ठा,  समर्पण
इसे न बिगाड़ो ला कर बीच में धन
दर्पण सा रखो मन
रिश्ते पर न जमने,दें धूल
भाई है माली, बहन है,फूल
सलामत रहे माली, फूल भी महकता जाए
रक्षा बंधन की हार्दिक शुभकामनाएं ।

Advertisements

About ajaykohli

Consultant ,deals in life management, psychology, astrology ,vaastu , fitness ,diet ,relationship counseling

Posted on August 17, 2016, in india, poetry, relationship. Bookmark the permalink. 3 Comments.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: